जल है तो कल है - Latest News & Updates - Rohilkhand Prabhat News

जल है तो कल है

Spread the love

बदायूँ:गिन्दो देवी महिला महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के तत्वाधान में कार्यक्रम अधिकारी असिस्टेंट प्रोफेसर सरला देवी चक्रवर्ती के दिशा निर्देशन एवं नेतृत्व में विश्व जल दिवस पर “जल है तो कल है” विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया साथ ही पोस्टर एवं भाषण प्रतियोगिता भी आयोजित की गईं। रैली निकालकर पोस्टर के माध्यम से लोगों को जल संरक्षण एवं जल संचयन के लिए प्रेरित किया दिया संदेश जल है तो जीवन है। पौधा रोपित कर जीवन बचाने का लिया संकल्प।
विचार गोष्ठी का शुभारंभ प्राचार्य डॉ गार्गी बुलबुल के मुख्य आतिथ्य में मां शारदे की समझ दीप प्रज्वलित कर व स्वामी विवेकानंद के चित्र पर पुष्प अर्पित कर किया गया। अपने संबोधन में प्राचार्य जी ने स्वयं सेविकाओं को प्रोत्साहित करते हुए जल संचयन के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम अधिकारी असिस्टेंट प्रोफेसर सरला देवी ने विस्तार पूर्वक इस दिवस के मनाया जाने के महत्व पर चर्चा करते हुए बताया कि पूरे विश्व के लोगों द्वारा हर वर्ष 22 मार्च को विश्व जल दिवस मनाया जाता है। वर्ष 1993 में संयुक्त राष्ट्र की सामान्य सभा के द्वारा इस दिन को एक वार्षिक कार्यक्रम के रुप में मनाने का निर्णय किया गया था लोगों के बीच जल का महत्व, आवश्यकता और संरक्षण के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिये हर वर्ष 22 मार्च को विश्व जल दिवस के रुप में मनाने के लिये इस अभियान की घोषणा की गयी थी। इसे पहली बार वर्ष 1992 में ब्राजील के रियो डी जेनेरियो में “पर्यावरण और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन” की अनुसूची 21 में आधिकारिक रुप से जोड़ा गया था और पूरे दिन के लिये अपने नल के गलत उपयोग को रोकने के द्वारा जल संरक्षण में उनकी सहायता प्राप्त करने के साथ ही प्रोत्साहित करने के लिये वर्ष 1993 से इस उत्सव को मनाना शुरु किया। सभी प्रवक्ताओं डॉक्टर निशी अवस्थी डॉ शिल्पी तोमर, डॉक्टर शिल्पी शर्मा, डॉ अनीता, डॉ उमा सिंह गौर, बबिता आदि ने अपने विचारों द्वारा स्वयं सेविकाओं का मार्ग प्रशस्त किया। भाषण प्रतियोगिता व पोस्टर प्रतियोगिता भी आयोजित की गई जिसमें सेविकाओं ने बढ़-चढ़कर प्रतिभाग किया परिणाम इस प्रकार रहा- पोस्टर प्रतियोगिता में कुमारी अंजली शर्मा, कुमारी प्रियंका संयुक्त रूप से प्रथम रहीं, कुमारी पल्लवी देवी रितु कश्यप ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया और और कुमारी मेघा पटेल दीवान, नैनशी पटेल व शिवांगी व पूनम यादव ने संयुक्त रूप से तृतीय स्थान प्राप्त किया। भाषण प्रतियोगिता भी आयोजित हुई जिसमें क्रमशः प्रथम स्थान पर रही कुमारी पलक वर्मा, द्वितीय कुमारी लवली शर्मा और तृतीय स्थान कुमारी सुषमा पाल ने प्राप्त किया। सभी स्थान प्राप्त स्वयंसेविकाओं को कार्यक्रम अधिकारी ने पुरुस्कृत कर उत्साहवर्धन किया। निर्णायक की भूमिका डॉ० शिल्पी शर्मा, डॉ०अनीता सिंह, डॉ० शिल्पी तोमर ने निभाई। सभी स्वयंसेविकाओं सुमन पल, प्रियंका, रीना, शीतल सिंह, अनुपम, कजल, प्रियंका देवी,राजकुमारी आदि की सक्रिय सहभागिता रहीं अन्त में पौधा रोपण कर जल संरक्षण एवं संचयन के संकल्प के साथ सभी का आभार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम अधिकारी सरला चक्रवर्ती ने कार्यक्रम के समापन की घोषणा की।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *