बाह रे बाह लेखपाल,घर बैठे ही लगा दी रिपोर्ट,आखिर क्यों - Latest News & Updates - Rohilkhand Prabhat News

बाह रे बाह लेखपाल,घर बैठे ही लगा दी रिपोर्ट,आखिर क्यों

Spread the love

लेखपाल ने पन्नी में रहने बाले मजदूर की बार्षिक आय “एक लाख बीस हजार” दर्शायी। बिना जांच के ही बना दिया आय प्रमाण पत्र।

पीड़ित की आय ज्यादा होने से नहीं बन रहा राशनकार्ड।

पीड़ित ने जांच कि मांग की।

कुंवर गांव। सलारपुर ब्लाक क्षेत्र के गांव पुठीसराय में एक युवक ने आय प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आवेदन किया था। जिसके बाद हल्का लेखपाल ने गांव में न पहुंचकर बिना जांच किए पीड़ित की वार्षिक आय ₹120000 कर दी जिससे पीड़ित को किसी भी प्रकार का लाभ नहीं मिल पा रहा है जहां पीड़ित ने डीएम साहब से जांच करने की मांग की है।
पूरा मामला सलारपुर ब्लाक क्षेत्र के गांव पुत्री सराय का है जहां विश्व प्रताप सिंह पुत्र मुन्ना सिंह गांव छप्पर डालकर रहते हैं परिवार की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है । जिन्होंने एक माह पूर्व आय प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आवेदन किया था। जिसके बाद हल्का लेखपाल ने गांव न पहुंचकर बिना जांच किए हुए। छुटभैय्ए नेताओं के कहने पर पीड़ित का आय प्रमाण पत्र जारी कर दिया। जिसमें उसने पीड़ित की वार्षिक आय ₹120000 लिख दी जिससे पीड़ित को राशन कार्ड, प्रधानमंत्री आवास योजना संबंधित किसी भी प्रकार का लाभ नहीं मिल पा रहा है जब पीड़ित ने राशन कार्ड के लिए आवेदन किया तो उसका राशन कार्ड आवेदन वार्षिक आय ज्यादा होने के कारण स्वता ही निरस्त हो गया। तभी से पीड़ित राशन कार्ड बनवाने के लिए अधिकारियों के यहां चक्कर काट रहा है लेकिन उसका राशन कार्ड नहीं बन पा रहा है।
गांव वालों का कहना कि उच्च अधिकारी अगर गांव में पहुंच कर जांच करें तो अधिकतम लोग ज्यादा जमीन , ट्रेक्टर , लाईसेंस धारक राशन कार्डों का लाभ लेते हुए पाए जा सकते हैं लेकिन कोई भी अधिकारी गांव में पहुंच कर जांच नहीं करता । जिलास्तर पर बैठ कर ही गांव में कुछ चुनिंदा लोगों से पूछकर ही काम निपटा लिए जातें हैं। और जिसका शिकार गरीब परिवार हो जाता है ।उसे किसी भी प्रकार का लाभ नहीं मिल पाता है ।
इस संबंध में जब हल्का लेखपाल से बात की तो वह अपने आप को फंसता देख कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए और कह दिया कि मैं गांव में पहुंच कर जांच करुंगा ।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *