नेशनल यूथ फेस्टिवल मे नामचीन कवियो शायरों ने की शिरकत

युवा मंच संगठन के द्वारा आयोजित नेशनल यूथ फेस्टिवल मे नामचीन कवियो शायरों ने की शिरकत , आर्टिस्ट्स वेलफेयर एसोसिएशन ने किया कवि सम्मेलन एवं मुशायरा आयोजन से समापन ।

बदायूँ । हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर युवा मंच संगठन के तत्वाधान में चल रहे नैशनल यूथ फेस्टिवल में आर्टिस्ट्स वेलफेयर एसोसिएशन के द्वारा कवि सम्मेलन व मुशायरा का आयोजन किया गया । कार्यक्रम में मुख्य अतिथि

कारगिल शहीद सुपुत्र कुंवर प्रताप सिंह शिवम एवं विशिष्ट अतिथि एवं सहयोगी गण मंडल में डॉ डीएस चौधरी , राकेश वार्ष्णेय , दीपेश वार्ष्णेय , सुमित वार्ष्णेय , विष्णु वार्ष्णेय, गौरव वार्ष्णेय ,शिवम वार्ष्णेय , रोहित बंशीधर आदि को सम्मानित किया गया ।
अतिथि गण सम्मान के पश्चात अतिथि मंडल ने मा शारदे के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन किया जिसमे महिला शिक्षक संघ के पदाधिकारी भी मौजूद रहे ।

कार्यक्रम का शुभारंभ मा शारदे की वंदना से कवियत्री एकता भारती ने किया एवं  कार्यक्रम का संचालन आर्टिस्ट्स वेलफेयर एसोसिएशन के संस्थापक व अध्यक्ष हिलाल बदायूँनी ने किया ।

यूथ फेस्टिवल में आयोजित कविसम्मलेन मुशायरा का शुभारंभ सरस्वती वंदना से पीलीभीत से आयी कवियत्री एकता भारती ने किया तत्पश्चात बरेली से आये आदेश कुमार राय ने अपना काव्यपाठ करते हुए कहा

अंधे बच्चों को कागज़ मिल जाये तो।
आखों की तस्वीर बनाया करते हैं।। 

हसनपुर से आये वकार फराज़ी ने पढ़ा 

मेरी फितरत में ही बेवफाई नहीं ।
तेरी तस्वीर अब तक जलाई नहीं । 

पूरनपुर से आयी शायरा सुल्तान जहां ने कहा
मेरे मुंसिफ मेरे रहबर तू अब तो फैसला कर दे ।

खिताबे बेवफा दे दे या साबित बेवफा कर दे । 

संचालन कर रहे कार्यक्रम संयोजक हिलाल बदायूँनी ने हिंदी के उपलक्ष्य में कहा 

सगी बहनों का रिश्ता है यहाँ हिंदी में उर्दू में 
यहाँ गंगा भी बहती है यहाँ जमुना भी बहती है । 

अनवर अमान आगरा ने कहा 

जब बात वतन की हो तो सब एक हैं हम लोग ।
फिर कोई भी हिन्दू या मुसलमान नहीं है । 

पीलीभीत से आयी कवियत्री एकता भारती ने कहा
विश्व को दिया निदान,जीवन विधान ज्ञान

सत्यम शिवम सुंदरम हिंदी भाषा है।

नैनीताल उत्तराखंड से आये  मोहन मुंतज़िर ने युवाओं को सम्बोधित करते हुए कहा

दिल में तुम्ही बसे हो मगर मन बदल लिया ।
चेहरा बदल न पाए तो दर्पण बदल लिया ।

दिल्ली से आये हास्य रस के कवि योगेंद्र सुंदरियाल ने कटाक्ष किया

कितनी सच्ची सोच है कितनी झूठी बात
अपने अपने संगठन अपनी-अपनी जात 

इसके अतिरिक्त कार्यक्रम में बदायूँ शहर का प्रतिनिधित्व करते हुए मास्टर असरार अहमद मुज़्तर ,

सरिता चौहान,  उज्ज्वल वशिष्ट ने भी अपने कलाम पेश किए । कार्यक्रम के अंत मे युवा मंच संगठन के अध्यक्ष 

ध्रुव देव गुप्ता ने सभी आगुंतकों कवियों शायरों का आभार व्यक्त किया

 । इस मौके पर आयोजक मंडल पुष्पेंद्र मिश्रा अभिनव यादव रमन पटेल सुशील कुमार दिलीप जोशी के अलावा सीमा यादव कमलेश विनोद भारद्वाज सहित वैश्य आदि सैकड़ों साहित्य प्रेमी मौजूद रहे ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: