कूड़ा घर बना लाखों रुपए खर्च करके बनाया गया प्रसव केंद्र ।

वर्ष 2020 में चयनित हुआ था संजरपुर गांव में प्रसव केंद्र।एएनएम ने आज तक रिसीव नहीं किए इंस्ट्रूमेंट, न ही हुई डिलीवरी।
फोटो
बदायूँ/अलापुर। प्राथमिक स्वस्थ केन्द्र म्याऊं से संबंध ग्राम संजरपुर में लाखों रुपए खर्च कर बनाया गया प्रसव केंद्र बदहाली के कगार पर पहुंच चुका है। वर्ष 2020 में प्रसव केंद्र बनाने के बाद आज तक इसका लाभ ग्रामीणों को नहीं मिल सका। ग्रामीणों ने बताया प्रसव केंद्र केवल नाम का बना है। आज तक केंद्र पर कोई भी प्रसव नहीं हुआ है, और न ही कोई यहां बैठता है। ग्रामीणो ने बताया कि टीकाकरण वाले दिन देर सवेर एएनएम आती है, और जब मन करता है चली जाती है।
बताते चलें कि वर्ष 2020 में विकासखंड म्याऊं क्षेत्र के गांव संजरपुर, मरौरी,नौगांवा नसीन नगर, गौतरा और बिलहरी में प्रसव केंद्र बनाए गए थे। इन केंद्रों को सुंदरीकरण कराने और जरूरी सामान खरीदने के लिए ग्राम पंचायत निधि से धन लगाया गया था। बता दें कि वर्ष 2020 में केंद्र बनने से अब तक बिलहरी केंद्र पर लगभग 100, मरौरी पर 31 नौगवां नसीरनगर केंद्र पर 16 और गौतरा पर भी प्रसव हुए हैं, लेकिन लाखों रूपए खर्च करने के बाद भी संजरपुर प्रसव केंद्र पर एक भी प्रसव नहीं हुआ है।
बताते चलें कि एएनएम ने अपनी मनमानी के चलते उच्प्राथामिक स्वस्थ केन्द्र से प्रसव के लिए जरूरी सामान भी रिसीव नहीं किया है। देखरेख के अभाव में केंद्र जुए का अड्डा बन गया है। ग्रामीणों ने बताया कि केंद्र पर केवल टीकाकरण वाले दिन ही देर सबेर एएनएम आती है और जब मन करता है, चली जाती है। बाकी दिनों में प्रसव केंद्र पूरी तरह बंद रहता है।

अजीत यादव ने बताया कि अभी तक केंद्र पर एक भी प्रसव नहीं हुआ है।यहां पर कोई बैठता भी नहीं है,ताकि गर्भवती महिलाओं को समय-समय पर सलाह मिल सके।

पुष्पेंद्र ने बताया कि एएनएम केबल टीकाकरण वाले दिन ही आती हैं। वह भी कुछ देर रुकती हैं,और जब मन करता है तो चली जाती हैं।

नीरज यादव ने बताया इस केंद्र के अंदर पर प्रसव होना तो दूर की बात है, इतनी गंदगी है कि केंद्र के कमरो के अंदर और बाहर कोई बैठ भी नहीं सकता। कमरों में टूटी-फूटी कुर्सी और मेज पड़े हैं। गंदगी बेशुमार है बड़ी-बड़ी घास उगी हुई है। पूरी बिल्डिंग में जाले ही जाले नजर आते हैं।
फोटो(महावीर सिंह यादव)
मेरे द्वारा एमओआईसी म्याऊं से प्रसव केंद्र संचालित कराने को मौखिक रूप से कई बार कहा गया, एएनएम से भी केंद्र खोलने को कहा गया। लेकिन समस्या का समाधान ना हो सका। जिससे जनता को सरकार की योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है।-महावीर सिंह यादव ग्राम प्रधान संजरपुर मेरे द्वारा कई बार संबंधित एएनएम से केंद्र को व्यवस्थित ढंग से संचालित कराने को कहा गया है।लेकिन वह एक नहीं सुनती उल्टे उन पर ही आरोप-प्रत्यारोप लगाने लगती हैं। प्रसव केंद्र के लिए खरीदा गया सामान आज तक उन्होंने रिसीव नहीं किया है। इस संबंध में लिखित में उच्चाधिकारियों अवगत कराया गया है।
डॉ असलम
एनओआईसी, म्याऊं।

संजरपुर को गलत तरीके से प्रसव केंद्र बना दिया गया था। संजरपुर गांव अलापुर से नजदीक पड़ता है। इस गांव की अधिकांश डिलीवरी अलापुर में होती हैं। केंद्र बनाने के बाद मेरे द्वारा इसकी शिकायत तत्कालीन डीएम से की गई तो, उन्होंने संजरपुर की जगह लभारी को केंद्र बनाने को कहा था। संजरपुर को गलत तरह से केंद्र बनाया गया था।

Leave a Reply

%d bloggers like this: