अपने भीतर के गांधी को उजागर करने की कोशिश करिए – तुषार ए गांधी

बदायूँ:-राष्ट्रीय सेवा योजना, उत्तर प्रदेश द्वारा आयोजित “आजादी का अमृत महोत्सव और युवा संकल्प” विषय पर आयोजित कार्यक्रमों की श्रृंखला में राष्ट्रपिता महात्मा गांधीजी के प्रपौत्र मुख्य वक्ता श्री तुषार ए गांधी ने कहा कि आपके अंदर जो गांधी हैं उन्हें उजागर करने की कोशिश करिए, तभी हम बेहतर इंसान बनेंगे। वर्तमान भारत में सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलकर सफल हुआ जा सकता है। सेटर फॉर गांधियन स्टडीज, राजस्थान विश्वविद्यालय की निदेशक प्रोफेसर विद्या जैन ने गांधी जी के दर्शन व चिंतन पर बोलते हुए कहा कि गांधी तब तक प्रासंगिक रहेंगे जब तक समाज में अन्याय, शोषण व अत्याचार है । गांधी आज भी प्रासंगिक हैं। गांधी व्यक्ति, समाज, प्रकृति और ईश्वर के बीच भेद नहीं करते। उनके लिए छोटे बड़े सभी समान हैं। गांधी ने पूरी दुनिया को विकास के मॉडल के साथ साथ मानव जीवन की मूलभूत समस्याओं का समाधान दिया है। विकास के कार्यों में समाज के सबसे नीचे वाले व्यक्ति को भी साथ लेकर चलना है ।

कार्यक्रम का प्रारंभ है एन एस एस लक्ष्य गीत से हुआ। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती नीलिमा कटियार ने अपने सारगर्भित व्यक्तव्य में कहा कि सेवा से सर्वोपरि कुछ नहीं। महात्मा गांधी जी के प्रपौत्र की उपस्थिति ने महात्मा गांधी को जीवंत कर दिया है।एनएसएस उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड के क्षेत्रीय निदेशक डॉ अशोक श्रोती ने कहा कि गांधी जी व शास्त्री जी की विचारधारा ही राष्ट्रीय सेवा योजना की विचारधारा है। आजादी के 75 साल बाद भी हमारे देश में कुछ चुनौतियां हैं जिनका सामना हमें करना है।

इस अवसर पर “युवा संकल्प” के तहत एनएसएस वॉलिंटियर्स सुनिधि सिंह , इकरा मुस्कान, अमित कुमार, दीक्षा, सादिया सिद्दीकी ने भी गांधी दर्शन पर अपने विचार रखे ।

संयोजक मंडल के सदस्य डॉ प्रकाश चौधरी द्वारा प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया, जिसमें 20 प्रश्न ऑनलाइन पूछे गए और पूरे प्रदेश के एनएसएस स्वयंसेवकों ने इसमें भाग लिया । क्विज में अंतिमा प्रजापति, राशि पटेरिया, और दीपा प्रथम रही। रोशन सिंह महौर ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। तृतीय स्थान पर कीर्ति चौरसिया, पलक उपाध्याय ,कोमल , संगीता राठौर, संध्या बरनवाल रहे।

कार्यक्रम के अंत में अंशुमालि शर्मा, राज्य संपर्क अधिकारी एन एस एस उत्तर प्रदेश ने आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत आयोजित प्रदेश स्तरीय प्रतियोगिताओं के परिणाम घोषित किए और स्वयंसेवकों को एन एस एस यू पी डिलिजेंस अवार्ड, रेगेलिया अवार्ड, फ्रीडम स्टोरी अवार्ड प्रदान किए। उन्होंने सभी आगंतुकों ,कार्यक्रम से जुड़े सभी समन्वयको , कार्यक्रम अधिकारियों व एनएसएस वॉलिंटियर्स को धन्यवाद दिया।
कार्यक्रम का संचालन डॉ एकता चौहान ने किया तथा मुख्य वक्ता का परिचय डॉ संध्या द्विवेदी ने दिया। इस अवसर पर गिन्दो देवी महिला महाविद्यालय बदायूं की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई कार्यक्रम अधिकारी असिस्टेंट प्रोफेसर सरला चक्रवर्ती, डॉ इति अधिकारी वं स्वयंसेविकाएं ने उपस्थित रहीं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: