ख़मसा-ए-जैनबिया मजलिस में खिताब करने बिसौली पहुंचे शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के महा सचिव मौलाना यासूब अब्बास

महा सचिव ने शिया इमाम बाड़ों का मुआयना भी किया,कहा-पूरी कौम को है एकता की जरूरत है

बदायूँ:-बिसौली।रविवार रात नगर के सहादात हवेली इमाम बाड़े में ख़मसा-ए-जैनबिया मजलिस का आयोजन किया गया।जिसमें लखनऊ से तशरीफ़ लाएं शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के महा सचिव मौलाना यासूब अब्बास ने शिया इमाम बाड़े में कौम के बीच मजलिस की।वही मौलाना यासूब अब्बास का शिया समुदाय ने जोरदार स्वागत भी किया।मजलिस में सोज्खानी की गई।इस मौके पर मजलिस को खिताब करते हुये महा सचिव मौलाना यासूब अब्बास ने कहा’ शिया-सुन्नी नही होना चाहिए बल्कि सभी कौम में एकता होना बहुत जरूरी है।मजलिस में मौलाना ने कहा हुसैन को मानने के लिए मुस्लिम होना जारूरी नही है,अच्छा इन्सान होना चाहिए।महा सचिव ने कहा कि 1400 साल पहले हुसैन ने याजिदियों के खिलाफ इंसानियत के लिए कर्बला के मैदान में युद्ध किया जिसमें इमाम हुसैन ने शहादत पाई थी।साथ ही इंसानियत के लिए उन्होंने अपने पूरे परिवार के साथ -साथ याजीद के खिलाफ युद्ध में 6 माह का अली असगर भी कुर्बान कर दिया।इस दौरान शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के महा सचिव मौलाना यासूब अब्बास ने नगर के सभी शिया इमाम बाड़ों का मुआयना भी किया।इस मौके पर वाहिद अली,अभीक्ष पाठक,शनि अब्बास,मश्कूर खाँ,बब्लू अली,शब्बर खाँ,इज्जत,अली,अफरोज,श्रीदत्तशर्मा,डॉ.शकील,इमरान,आसिफ,शोहिब,इशायत अली,शाहिम,सालिम खाँ,जमाल,सलमान अब्बास,इरफ़ान खाँ,जमाल,ताहा मेहंदी आदि मौजूद रहें

Leave a Reply

%d bloggers like this: