शकील पार्क का सौंदर्यीकरण कर किया उद्घाटन

बदायूँ। दुनियां भर में बदायूँ का नाम रौशन करने बाले हजरत शायर गीत व गज़ल कार शकील बदायूंनी को कौन नहीं जानता है हकीकत तो यह है की शकील साहब के नाम से ही बदायूँ की पहचान कराई जाती है।
गौरतलब है की जनाब शकील बदायूंनी साहब को किसी के पहचान कराने की जरूरत नहीं है शकील साहब तो खुद बदायूँ का नायाब आईना है। सुना जाता है कि शकील बदायूंनी साहब ने अपनी गज़लें और गीत की रौशनी दुनियां भर में फैलाकर अपने वतन शहरे बदायूँ का नाम हिंदुस्तान सहित पूरी दुनियां भर में मशहूर कर दिया फिल्मी दुनियां में भी उन्होंने अपनी गज़ल व गीतो से वह मरतबा हासिल किया जिसको लोग याद करते हैं। बदायूँ में जन्में शकील साहव के कलाम व गीतो में वह जादू था की उसको सुनकर खुद को गुनगुनाने से कोई नहीं रोक पाता था और सच तो यह है कि वह जादू अभी भी देखने को मिलता है जिधर देखो उधर लोग उनके गीतो को गुनगुनाते दिखाई दे जाते हैं।
बुधवार को व्यापार मण्डल द्धारा शहर के बीचोबीच स्थित घंटाघर पर शकील पार्क का सौंदर्यीकरण कर उद्घाटन किया गया जिसमें मुख्य रूप से जिलाधिकारी कुमार प्रशांत व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा ने मौजूद रहकर शकील बदायूंनी साहब के पार्क का उद्घाटन किया साथ ही अपने विचार व्यक्त कर शकील साहब के जीवन पर रौशनी डालते हुये उनसे शिक्षा लेने को कहा।
उद्घाटन समारोह में व्यापार मण्डल द्धारा जिलाधिकारी व एसएसपी आदि बहुत से उपस्थित लोगो का फूलमाला व शाल पहनाकर स्वागत किया गया।
इस मौके पर लोगो की खासी भीड जमा रही।

Leave a Reply

%d bloggers like this: