संस्थाओं ने किया पश्चिमी सभ्यता वैलेंटाइन डे का विरोध

बदायूँ। पश्चिमी सभ्यता
वैलेंटाइन डे को हिंदुस्तान में बढ़ावा ना देने की अपील करते हुये समाजिक सस्थाओं ने इसका विरोध किया आगाज द वॉइस ऑफ यूथ की बैठक में वैलेंटाइन डे का पुरजोर विरोध करते हुये सभी सदस्यों ने शपथ ली कि हम पश्चिमी सभ्यता को अपने हिंदुस्तान में नहीं बढ़ने देंगे।
आमिर सुल्तानी ने कहा कि हमारे देश में पश्चिमी सभ्यता दिन ब दिन बढ़ती जा रही है वैलेंटाइन डे रूम के एक संत के नाम से मनाया जाता है जब कि हमारे हिंदुस्तान मे लैला मजनू , हीर रांझा जैसे लोग जन्मे हैं जिन्होंने मोहब्बत की एक ऐसी मिसाल कायम की जिसे दुनिया जब तक रहेगी याद रखा जाएगा हमें ऐसे प्यार करने वालो के जन्मदिन को मनाना चाहियें जबकि हम उन्हें भूल गए हैं और पश्चिमी सभ्यता को अपना रहे हैं जो कि हमारे देश के लिए घातक साबित हो सकती है।
नितिन गुप्ता ने कहा कि सभी लोगो को इस दिन का जम कर अहिंसात्मक तरीके से विरोध करना चाहिए करना चाहियें।
इस मौके पर राहुल गुप्ता, शीराज अल्वी, गुड्डू अली, शाहबाज हुसैन, अंबर शब्बीर, समीर खान, शमशाद सिद्दीकी फैजुल साकिब आदि मौजूद रहे।
इधर महिला थाने में युवा मंच संगठन की महिला विंग के जिलाध्यक्ष महिमा शंखधार के नेतृत्व में बैलेंटाइन्स डे के विरोध दर्ज करते हुये मातृ पितृ दिवस के रूप में मनाया। सरकारी महिला उपनिरीक्षक सीमा सिंह ने सरस्वती माता के समक्ष दीप प्रज्वलित कर एवं अन्य कर्मचारियों एवं अधिकारियों के सम्मान में महिला पुलिसकर्मियों के साथ सरस्वती माँ के समक्ष दीपप्रज्वलित कर एवं संगठन की महिला युवा विंग के द्वारा गुलाब का फूल एवं मिठाई वित्रित कर मनाया गया ।
इस मौके पर अर्जुन शर्मा दिलीप जोशी, पुष्पेंद्र मिश्रा, रमन पटेल, महिमा शंखधार,भावना शर्मा, आरती पाल, गुंजन ठाकुर, अरशद खान, शीतल यादव, संस्कृति सिंह, खुशबू वर्मा आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: