धनंजय सिंह पर पच्चीस हजार का इनाम घोषित, अजीत सिंह हत्याकांड का आरोपी है धनंजय । - Latest News & Updates - Rohilkhand Prabhat News

धनंजय सिंह पर पच्चीस हजार का इनाम घोषित, अजीत सिंह हत्याकांड का आरोपी है धनंजय ।

Spread the love

धनंजय सिंह की अवैध संपत्तियों को जब्त करने की भी योजना

लखनऊ । पूर्व में ब्लॉक प्रमुख रहे अजीत सिंह हत्याकांड में आरोपी बाहुबली और जौनपुर के पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर पुलिस का शिकंजा कसता ही जा रहा है। धनंजय सिंह पर लखनऊ पुलिस ने 25 हजार का इनाम घोषित किया है। इनाम की राशि बढ़ाने के लिए भी पुलिस ने सिफारिश की है। इस बीच धनंजय की कई अवैध संपत्तियों की जानकारी पुलिस के हाथ लगी है। इस बाबत इनकम टैक्स डिपार्टमेंट व प्रवर्तन निदेशालय को पत्र लिखा गया है। एनकाउंटर में मारे गए गिरधारी विश्वकर्मा की भी कई अवैध संपत्तियों की जानकारी पुलिस के हाथ लगी है। अब पुलिस सभी अवैध संपत्तियों को जब्त करने की योजना बना रही है।
डीसीपी पूर्वी संजीव सुमन ने बताया कि 15 फरवरी को पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड में पुलिस ने धनंजय सिंह को हत्या की साजिश रचने का आरोपी बनाया था। सीजेएम लखनऊ की कोर्ट ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था। इसके बाद से उसकी तलाश की जा रही है। उसकी संपत्ति की डिटेल को भी हम खंगाल रहे हैं। अलग-अलग राज्यों और जिलों में कई फार्म हाउस, फ्लैट्स ढूंढने में कामयाब रहे हैं।
डीसीपी पूर्वी संजीव सुमन के मुताबिक आरोपित पर इनाम की राशि बढ़ाने के लिए पत्राचार किया जा रहा है। डीसीपी का कहना है कि आरोपित ने अवैध ढंग से करोड़ों की संपत्तियां अर्जित की हैं। पुलिस की ओर से प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग को पत्र लिखा गया है। पुलिस का कहना है कि धनंजय और उनके परिवार का आय का मुख्य श्रोत न होने के बावजूद अपराधिक कृत्यों से संपत्ति बनाई गई है, जिसे जब्त कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
पुलिस ने गुरुवार को गुडंबा के अपार्टमेंट, सुल्तानपुर रोड स्थित सूर्या अपार्टमेंट और गोमतीनगर के शारदा अपार्टमेंट समेत कई जगहों पर छापा मारा, लेकिन पूर्व सांसद का पता नहीं लगा। इस बीच पुलिस को खबर मिली कि धनंजय सिंह दिल्ली के एक वकील के संपर्क में है। इस सूचना पर पुलिस की एक टीम ने दिल्ली में भी दो स्थानों पर दबिश दी लेकिन पूर्व सांसद हाथ नहीं लगे। वहीं इस हत्याकांड में तीन शूटरों रवि यादव, राजेश तोमर, शिवेंद्र सिंह उर्फ अंकुर की तलाश की जा रही है।
अजीत के साथ मौजूद मोहर सिंह ने एफआईआर दर्ज कराई थी कि आजमगढ़ जेल में बंद कुंटू सिंह और अखण्ड सिंह ने गिरधारी के जरिए हत्या करवाई है। गिरधारी ने पांच शूटरों के साथ अजीत की हत्या की थी। गिरधारी को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराने का दावा किया था। इसके बाद ही पुलिस ने सांसद धनंजय सिंह को गिरधारी के बयान के आधार पर हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोपी बनाया था। इसके साथ ही धनंजय पर एक घायल शूटर राजेश तोमर का लखनऊ और सुल्तानपुर में इलाज कराने में मदद करने का भी आरोप है।
गौरतलब है कि बीते 5 जनवरी 2021 को राजधानी के विभूति खंड थाना क्षेत्र के पॉश इलाके कठौता चौराहे पर मऊ जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस दौरान अजीत का साथी मोहर सिंह व एक फूड डिलीवरी कंपनी का कर्मचारी घायल हुआ था। इस प्रकरण में आजमगढ़ के बाहुबली कुंटू सिंह, अखंड सिंह के अलावा गिरधारी के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज की गई थी। पुलिस ने इस शूटआउट में तीन मददगारों को दबोचा था। जबकि शूटर संदीप सिंह को भी पकड़ा जा चुका है।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *